यहा तक आने के लिए आपका सधन्यवाद....... आपका बालू राजपुरोहित , कोई सुझाव देना चाहते है! तो हमसे संपर्क करे! हमारा ई-मेल पता है :- com.balupurohit@gmail.com

Wednesday, January 4, 2017

संविधान बदलों ...धर्म बचाओं !

आह्वान

संविधान बदलों, धर्म बचाओं।

इंडियन संविधान के प्रावधानों के अन्तर्गत ईसाई, मुस्लिम बौद्ध संस्थाओं द्वारा संचालित स्कूलों में उनकी धार्मिक पुस्तकें बाइबिल, कुरान व धम्मपद आदि पढ़ाई जाती हैं, तो फिर हिन्दुओं द्वारा संचालित स्कूलों में गीता, रामायण व वेद पढ़ाये जाने पर प्रतिबंध क्यों ?

वो षड़यंत्रकारी लोग कौन हैं जिन्होंने अपनी हिन्दू विरोधी कुण्ठा के चलते जानबूझकर हिन्दू धर्म संस्कृति का विनाश करने के लिए इंडियन संविधान में अनुच्छेद 28, 29, 30-अ का प्रावधान किया ?
संविधान में इन अनुच्छेदों को लिखकर हिन्दुओं से उनका धार्मिक शिक्षा का मूल अधिकार छीन लिया गया हैं हिन्दू अपने स्कूलों में अपने बच्चों को धार्मिक शिक्षा भी नहीं दे सकता ?

भारत देश में साम्प्रदायिक आधार पर भारतीय नागरिकों के लिए दोहरी संविधानिक व्यवस्था क्यों ?
क्या यह मानवता के प्रति अपराध नहीं हैं ?
क्या अब इस व्यवस्था को बदलना नहीं चाहिए ?
हिन्दू समाज ने अपने अस्तित्व की सुरक्षा के लिए भाजपा को केन्द्र में पूर्ण बहुमत की सरकार दी हैं, क्या अब केन्द्र सरकार को भारतीय संविधान का भारतीय नागरिकों के हित में पुनर्लेखन नहीं कराना चाहिए।

भारत का संविधान भारतीय मानसिकता के लोगों द्वारा लिखित होगा तो ही भारत का भला होगा, कल्याण होगा। संविधान के पुनर्लेखन हेतु समिति बनाने की प्रधानमन्त्री जी व राष्ट्रपति जी से मांग करें।

बालूसिंह राजपुरोहित
राष्ट्रीय कार्यकारणी सदस्य
भारत स्वाभिमान दल
09982871008,9413981008

http://www.raj-balu.blogspot.in

Friday, December 30, 2016

डॉ विक्रम साराभाई की पुण्यतिथि पर कोटि-कोटि प्रमाण

अंतरिक्ष अनुसन्धान के क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय मानचित्र में भारत को स्थान दिलाने वाले सृजनशील वैज्ञानिक डॉ. विक्रम साराभाई की आज पुण्यतिथि है। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) एवं भारतीय अंतरिक्ष अनुसन्धान संगठन (ISRO) देश में ऐसी दो संस्थाएं हैं जो अंतरिक्ष एवं रक्षा से जुड़े अनुसंधान कार्यों में देश का प्रतिनिधित्व करती हैं। अभी 26 दिसम्बर 2016 को रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO)  ने अग्नि-5 मिसाइल का सफल परीक्षण किया, इस मिसाइल की मारक क्षमता 5000 - 8000 किलोमीटर है। अग्नि-5, चीन और पाकिस्तान सहित लगभग पूरे एशिया और यूरोप तक हमला करने में सक्षम है।

परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम भारत की अब तक की सबसे लंबी दूरी तक मार करने वाली यह मिसाइल 1000 किलोग्राम तक के आयुध के साथ हमला कर सकती है। आज भारत न सिर्फ अपने अंतरिक्ष संबंधी आवश्यकताओं की पूर्ति करने में सक्षम है बल्कि दुनिया के बहुत से देशों को अपनी अंतरिक्ष क्षमता से व्यापारिक और अन्य स्तरों पर सहयोग कर रहा है। वर्ष 2016 में इसरो ने 10 देशी एवं 22 विदेशी सैटेलाइट लॉच कर एक रिकॉर्ड कायम किया।

इसरो ने वो कर दिखाया है, जो न अमेरिका कर सका, न चीन न कोई और विकसित देश। वर्ष 2014 में भारत का मंगलयान 67 करोड़ किलोमीटर का सफर पूरा कर पहली ही कोशिश में सीधे मंगल ग्रह की कक्षा में जा पहुंचा। मंगलयान पर सिर्फ 450 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं, जो नासा के मावेन मिशन के खर्च का 10वां हिस्सा ही है। जनवरी 2017 में इसरो एक साथ 83 सैटेलाइट लॉच करने जा रहा है, यह एक ऐतिहासिक क्षण होगा। मैं इन दोनों संस्थाओं में कार्यरत वैज्ञानिक एवं कर्मचारियों को देशहित में उनके कार्य के लिए बधाई एवं भविष्य हेतु शुभकामनाएं देता हूँ। कवि एवं राज्यसभा सांसद श्री रामधारी सिंह दिनकर जी ने बिलकुल सही कहा था -

जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान !

- बालूसिंह राजपुरोहित